2021 मे एप्लीकेशन कैसे बनाया जाता है | Application kaise banaya jata hai |

तो बात करने वाले हम एप्लीकेशन कैसे बनाया जाता है | Application kaise banaya jata hai | अगर आप मोबाइल यूज करते हो तो अपने मोबाइल में एप्लीकेशन देखी होंगे। क्योंकि एप्लीकेशन के वजह से हमारे कई सारे काम हो जाते हैं जैसे कि केलकुलेटर जैसे ही क्लॉक, बोला जाए तो खेल खेलने के लिए गेम्स का एप्लीकेशन, मनोरंजन के एप्लीकेशन, हेल्थ रिलेटेड एप्लीकेशन ऐसे कई तरह के एप्लीकेशन होते हैं। जो हम हर रोज यूज़ करते हैं।

एप्लीकेशन कैसे बनाया जाता है | Application kaise banaya jata hai |

तो आज हम बात करने जा रहे एप्लीकेशन कैसे बनाया जाता है। देखिए दोस्तों आप अगर एप्लीकेशन बनना चाहते हैं तो पहले तो आपको 3-4 प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आना जरूरी है। प्रोग्रामिंग लैंग्वेज मतलब अभी समझो अपने को कौन सी 2 गेम बनानी है। तो गेम बनाने के लिए हम लोगों को कुछ प्रोग्रामिंग करनी पड़ेगी उसके बाद गेम बन सकती है, तो पहली बात गेम बनाने के लिए या फिर एप्लीकेशन बनाने के लिए हमें कुछ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज उपयोग में आने वाली है।

आपको मैं तीन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में बताने जा रहा हूं उसके नाम मैंने नीचे लिख दिए गए हैं।

NumberLanguage
1 C++
2 Java
3 Python
  • C++
  • Java
  • Python

इसी तरह की और बहुत कुछ लैंग्वेज लग जाती है किसी एप्लीकेशन को बनाने के लिए। इसी प्रकार से कौन सा भी एप्लीकेशन या गेमिंग एप्लीकेशन बनाया जाता है, इन लैंग्वेज ओं का आपको बेसिक नॉलेज भी आ गया तो भी आप साधारण एप्लीकेशन बना पाएंगे या बना सकते हैं।

एप्लीकेशन बनाने के लिए आपको तीन लैंग्वेज आना बहुत जरूरी है, सी प्लस प्लस, जावा, पाइथन इस प्रकार के लैंग्वेज आप जान गए तो आप कौन सा भी एप्लीकेशन जल्दी से बना सकते हैं। अगर आप कोई कंप्यूटर इंजीनियर हो तो आपको आपके फील्ड में ऐसी कई सारी लैंग्वेज सिखाई जाती है।

कंप्यूटर फील्ड में आपको एप डेवलपमेंट वेबसाइट डेवलपमेंट और भी बहुत कुछ ऑनलाइन रिलेटेड सारी चीजें सिखाई जाती है। और तो और कंप्यूटर इंजीनियरिंग में अलग-अलग लैंग्वेज इज के अलग-अलग किताब होते हैं जिससे आप भरपूर ज्ञान पा सकते हैं उसमें हर एक लैंग्वेज का किताबी नॉलेज दिया हुआ है

एप्लीकेशन बनाने बहुत ही सरल होता है जब आपको उसकी लैंग्वेज इसका अनुभव हो। उन उन लैंग्वेज इसका ऑनलाइन या फिर आपके घर के आसपास कोर्स शुरू होते हैं, वहां से आप पूरी डिटेल में नॉलेज लेकर सी प्लस प्लस जावा पाइथन यह लैंग्वेज सीख सकते हैं।

तो दोस्तों आप तो जान ही गए होंगे कि मोबाइल में एप्लीकेशन बनाने के लिए किस-किस चीजों की आवश्यकता होती है और किस-किस लैंग्वेज को हमें पढ़ना होता है उसके बारे में जानना होता है उसका कोर्स करना होता है तो आप समझ ही गए होंगे कि मोबाइल एप्लीकेशन कैसे बनाया जाता है।

अगर आप समझ गए होंगे मोबाइल एप्लीकेशन कैसे बनाया जाता है, Application kaise banaya jata hai. तो हमें कमेंट में जरूर बता कर जाना, तो चले दोस्तों मिलते हैं अगली पोस्ट में, तभी तक के लिए नमस्कार।

Leave a Comment